HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI|1 EASY STEP

HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI
HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI

HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI / BAD HABITS WITH HONEY :- एक इंसान ही ऐसा जीव है जो बिना प्यास लगे शराब, चाय, कॉफी आदि पीने वाली चीजों का सेवन कर सकता है. शराब, तम्बाकू आदि मादक पदार्थों में धीमा ज़हर होता है और लोग समझते हैं कि ज़हर ही ज़हर को मारता है, इसलिए लोग शराब पर शराब और तम्बाकू पर तम्बाकू का सेवन करते रहते हैं और समझते हैं कि हमारा स्वास्थ्य सुधर रहा है. दरअसल सच तो यह है कि सभी प्रकार के नशे के पदार्थ के सेवन से शरीर की ताकत बराबर कम होती है. ज्यादातर शराब पीने वाले लोग और ज्यादा नशे में होने लिए तम्बाकू या सिगरेट पीते हैं, पान या सुपारी खाते हैं. या फिर इसी प्रकार के कई अन्य नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं. इस तरह से एक बुरी आदत से और भी बुरी आदते लगती जाती हैं और इससे उनकी कमजोरी और बढ़ती जाती है.  

क्यों पड़ती है नशीले पदार्थों की आदत |HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI

एक बार शराब या तम्बाकू का सेवन करने के बाद दोबारा करने की जरूरत पड़ती है इसका कारण केवल यह है कि पहले बार के सेवन से शरीर में एक प्रकार का विष उत्पन्न हो जाता है और तब उस विष को नष्ट करने या उससे शरीर में आई हुई कमजोरी को दूर करने के लिए दोबारा उस नशीले पदार्थ का सेवन करने की जरूरत पड़ती है लेकिन परिणाम यह होता है कि वह विष पहले की अपेक्षा दोगुना या तिगुना हो जाता है और कमजोरी भी अधिक हो जाती है. जो आदमी पहले दिन में एक सिगरेट पीता है वही आदमी कुछ दिनों बाद एक दिन में दस-दस या बीस-बीस सिगरेट पीता है.

कितना हानिकारक होता है नशीले पदार्थों का सेवन |HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI

नशीले द्रव्य या पदार्थ के सेवन से स्नायु बहुत कमजोर होते हैं और दिमाग के ज्ञान तंतुओं में आलस और रोग का प्रवेश हो जाता है. तम्बाकू के सेवन से अर्जीण तो ज्यादातार हो ही जाता है और अर्जीण हो जाने पर कोष्ठबद्धता और कोष्ठबद्धता हो जाने पर अनेक रोग हो जाते हैं. अर्थात एक मादक या नशीले पदार्थ के सेवन से अनेक प्रकार के रोग उत्पन्न हो सकते हैं और होते भी हैं.

आप किसी व्यसनी आदमी से उसका व्यसन छोड़ देने के लिए कहिए और तब ध्यानपूर्वक देखिए कि आपके कहने पर उसकी क्या दशा होती है. उसकी उस दशा से ही यह बात साफ होती है कि जिस मादक पदार्थ का उसे व्यसन है उसमें विष का अंश जरूर मिला है और उस पर विष बहुत बड़ा प्रभाव कर चुका है. वह उस विष का इतना आदि हो चुका है कि उसके बिना काम ही नहीं चल सकता.

कैसे लगती है नशीले पदार्थों की लत  |HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI

जो लोग शराब या किसी भी नशीले पदार्थ का सेवन करते हैं यदि वह अचानक से इन नशीले पदार्थों का सेवन करना बंद कर देते हैं तो उनके शरीर व दिमाग में विशेष प्रकार की गड़बड़ी या अव्यवस्था उत्पन्न हो जाती है. यह गड़बड़ी उनके नशीले पदार्थों के सेवन करने से ही होती है और यह गड़बड़ी दूर करने के लिए उन्हें फिर से नशीले पदार्थों का सेवन करना पड़ता है. वे इन नशीले पदार्थों की आदत छुड़ाने के लाखों प्रयत्न करते हैं लेकिन इनके बिना उनका काम ही नहीं चलता. जब वे अपने नशे की लत छोड़ देते हैं तब तो उन्हें अपना शरीर बहुत ही कमजोर और अस्वस्थ जान पड़ता है. पर जब वह फिर से यह नशा आरंभ कर देते हैं तब मानो उन्हें शांति और स्वस्थ्ता का अनुभव होने लगता है.

जब नशीले पदार्थ का सेवन करने वाला व्यक्ति कुछ दिन या कुछ देर के लिए मादक पदार्थ का सेवन छोड़ देता है तभी इस बात का पता लगता है कि उस व्यक्ति पर मादक पदार्थ का कितना अधिक अधिकार हो गया है. नशे की लत छोड़ देने पर थोड़े ही समय में वे समझने लगते हैं कि नशा हमारे जीवन यात्रा के लिए बहुत लाभदायक है और इसे छोड़ देने से बहुत बड़ी हानि होती है. लेकिन उनका ऐसा समझना उनकी बड़ी भारी भूल है. पहले उन्हें कुछ अधिक समय तक नशा बिल्कुल छोड़ देने चाहिए और तब यह देखना चाहिए कि यह नशा जारी रखने में उनकी हानि होती है या छोड़ देने में. वास्तव में हमेशा नशा करना ही हानिकारक होता है इसका छोड़ देना कभी हानिकारक नहीं हो सकता है.

HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI / BAD HABITS WITH HONEY | कैसे छोड़ें नशे की लत

जो लोग नशे की आदत छोड़ना चाहते हैं उन्हें सबसे पहले नशे की आदत को छोड़ने की वास्तविक इच्छा होनी चाहिए और मन में यह दृढ़ निश्चय करना होगा कि चाहे जो भी हो हम नशे को हाथ नहीं लगाएंगे जो लोग यह नशा करते हैं उनकी संगत में रहना बंद या कम कर देना चाहिए साथ ही उस जगह पर भी ना जाएं जहां नशीले पदार्थों का सेवन हो रहा हो. क्योंकि ऐसा करने से फिर से नशा करने की इच्छा उठेगी और नशे की आदत छूट नहीं पाएगी और नशा करने का संकल्प टूट जाएगा.

जब कभी भी नशे की तलब लगे तो शहद गुनगुने पानी के साथ चाय की तरह पिएं और उसमें नींबू भी मिला सकते हैं. शुरुआत में यह कठिन होगा लेकिन धीरे-धीरे यही अच्छा लगने लगेगा. इस प्रकार नशे की आदत छूट जाएगी और शरीर दिन-पर-दिन स्वस्थ और निरोग होता जाएगा. नशीले पदार्थों की आदत छोड़ने के लिए दृढ़ संकल्प की जरूरत होती है लेकिन यदि किसी कारणवश यह संकल्प टूट भी जाता है तो उस गलती को सुधार कर फिर से आगे बढ़ें और यह ना सोचें कि कल से छोड़ूंगा. कल कभी होगा नहीं और इंसान वहीं अटका रहेगा.

क्या होता है नशीली चीजों में|HOW TO QUIT SMOKING IN HINDI

सभी नशीली चीजों में निकोटिन मिला होता है, ऐसा कहा जाता है कि यह इतना ज़हरीला होता है कि यदि इसे कुत्ते को चाटने के लिए दिया जाए तो कुत्ता तुरंत ही मर जाता है. नशीले पदार्थों के सेवन से यह ज़हर हमारे खून में मिल जाता है. इससे बस इसी तरह से बचा जा सकता है कि नशे की आदत छोड दी जाए और शहद का सेवन शुरु किया जाए क्योंकि शहद ही हमारे खून को प्राकृतिक तरीके से साफ कर सकता है साथ ही इससे हमारे शरीर को अनेकों लाभ भी होते हैं.

अगर आपको हमारी ये पोस्ट पंसद आयी हो तो अपने परिजनों, दोस्तों को जरूर शेयर करें और bell icon को press करना ना भूलें.

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *