Coronavirus(कोरोना वायरस) क्या है, कारण, लक्षण, बचाव

CORONAVIRUS

Coronavirus(कोरोना वायरस) एक खतरनाक जानलेवा विषाणु है जिससे चीन समेत पूरी दुनिया में इस समय हाहाकार मचा हुआ है. यह वायरस सी-फूड(समुद्री भोजन) से जुड़ा हुआ है. Coronavirus(कोरोना वायरस) अन्य खतरनाक वायरस सार्स(SARS) के परिवार का ही हिस्सा है. इस वायरस की शुरुआत चाइना के हुवेई प्रांत के वुहान शहर में एक सी-फूड बाजार से हुई. यह वायरस इंसानों के साथ-साथ पशुओं में भी प्रवेश कर सकता है.

Coronavirus(कोरोना वायरस) क्या है

Coronavirus(कोरोना वायरस) सबसे पहले 1960 में पहचाना गया. हालांकि ये कहां से आया था इसका कुछ पता नहीं चला. ताज(Crown) जैसे आकार की वजह से इनका नाम कोरोना पड़ा. कोरोना वायरस भी ठीक उसी तरह फैलता है जैसे सर्दी-जुकाम वाले अन्य वायरस. वायरस से संक्रमति लोगों द्वारा छींकने या फिर खांसने से, संक्रमित व्यक्ति का हाथ या मुंह छूने से, या फिर संक्रमित व्यक्ति द्वारा छुए गए Doorknobs (दरवाजे का दस्ता) छूने से.

Coronavirus(कोरोना वायरस) कई तरह के होते हैं जिनमें ज्यादातर खतरनाक नहीं होते हैं लेकिन कुछ कोरोना वायरस बेहद गंभीर होते हैं. इनमें से MERS  भी एक हैं. MERS यानि Middle East respiratory syndrome. इससे 858 लोगों की मौत हो गई थी. यह सबसे पहले साल 2012 में सऊदी अरब में दिखाई दिया और फिर उसके बाद Middle East, अफ्रीका, एशिया और यूरोप के अन्य देशों में पाया गया.

साल 2015 मई में कोरिया में कोरोना वायरस MERS(Middle East respiratory syndrome) का भयंकर प्रकोप देखने को मिला था. कोरोना वायरस सार्स/SARS(severe acute respiratory syndrome) के प्रकोप से 20 लाख 37 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी. जबकि साल 2002 में चीन में सार्स के कारण 8,098 लोग संक्रमित हुए थे जिनमें से 774 लोगों की मौत हो गई थी. हालांकि साल 2015 के बाद SARS कोरोना वायरस का कोई अन्य मामला सामने नहीं आया. MERS और SARS  दोनों ही कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकार हैं.  

जनवरी 2020 में WHO ने चीन में Coronavirus(कोरोना वायरस) के नए प्रकार की पहचान की है जिसका नाम है 2019 नोवेल कोरोना वायरस/2019 Novel coronavirus (2019-nCoV). चीन में इस वायरस का प्रकोप देखने को मिल रहा है. वायरस से संक्रमित और मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है. यह नया कोरोना वायरस सबसे पहले दिसंबर महीने में चीन में पकड़ में आया लेकिन अब यह चीन से अऩ्य देशों में भी पहुंच गया है. चीन के अलावा यूएस, थाईलैंड और जापान में इसके मामले सामने आए हैं.

जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि Coronavirus(कोरोना वायरस) कई प्रकार के होते हैं लेकिन इनमें ज्यादातर खतरनाक नहीं होते हैं. सिर्फ 6 को ही लोगों को संक्रमित करने के लिए जाना जाता था लेकिन नए वायरस का पता लगने के बाद यह संख्या बढ़कर सात हो गई है. चीन में पाए गए इस नए कोरोना वायरस के जेनेटिक कोड के विश्लेषण से यह पता चला है कि यह मानवों को संक्रमित करने की क्षमता रखने वाले अन्य कोरोना वायरस की तुलना में ‘सार्स’ से अधिक मिलता जुलता है. हम पहले ही आपको बता चुके हैं कि सार्स नाम का Coronavirus(कोरोना वायरस) कितना खतरनाक होता है.

Coronavirus(कोरोना वायरस) के कारण

चीन के वुहान के सी-फूड बाजार में भेड़िये के बच्चे से लेकर कस्तूरी बिलाव तक विभिन्न नस्ल के वन्य एवं समुद्री जीव बिकते हैं. यहां यह बताना जरूरी है कि कस्तूरी बिलाव जैसे कई जीवों का संबंध पहले फैल चुकी कई महामारियों से रहा है. कहा जा रहा है कि नया Coronavirus(कोरोना वायरस)  संभवत सी-फूड बाजार में बेचे गए जंगली जानवर के मांस से फैला है. वैज्ञानिकों का मानना है कि चमगादड़ों ने बिल्ली जैसे जीवों को संक्रमित किया होगा. संक्रमित जीवों का मांस खाने से ऐसे वायरस इंसान में फैल जाते हैं. चीन सहित दुनिया के अन्य देशों में पहले फैली महामारियों का कारण भी जंगली जानवर थे. चीन में कोरोना सार्स वायरस कस्तूरी बिलाव का मांस खाने से फैला था.

Coronavirus(कोरोना वायरस) के लक्षण

Coronavirus(कोरोना वायरस) के लक्षण सर्दी-जुकाम के लक्षणों जैसे ही होते हैं. कई बार तो मरीज को पता ही नहीं चलता है कि वो कोरोना वायरस से संक्रमित है या फिर सर्दी-जुकाम पैदा करने वाले वायरस जैसे राइनोवायरस(Rhinovirus) से. लेकिन सर्दी-जुकाम जैसे दिखने वाले ये लक्षण अगर गंभीर रूप ले लें तो ये कोरोना वायरस से संक्रमण का संकेत होता है. कोरोना वायरस के निम्नलिखित लक्षण हैं:-

  1. सिरदर्द
  2. नाक बहना
  3. सांस लेने में दिक्कत
  4. खांसी
  5. गले में खराश
  6. बुखार
  7. अस्वस्थ महसूस करना
  8. छींक आना
  9. अस्थमा का बिगड़ना
  10. थकान महसूस होना
  11. निमोनिया, फेफड़ों में सूजन

Coronavirus(कोरोना वायरस) संक्रमण अगर निचले श्वसन-पथ/Lower respiratory tract ( श्वास नलिका और फेफड़े/windpipe and lungs) में फैल जाए तो इससे pneumonia/निमोनिया हो सकता है खासकर बुजुर्गों में और जिन्हें दिल से जुड़ी बीमारी हो उनमें व जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो उनमें निमोनिया होने का खतरा ज्यादा रहता है.

Coronavirus(कोरोना वायरस) से बचाव

Coronavirus(कोरोना वायरस) से बचाव के लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है. इसलिए डॉक्टर इसके खतरे को कम करने के लिए अन्य महत्वपूर्ण दवाओं का इस्तेमाल करते हैं. यह वायरस अगर लंबे समय तक व्यक्ति के शरीर में रह जाए तो यह जानलेवा साबित हो सकता है.लिहाजा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए आप ये उपाय कर सकते हैं:-

  1. अपने हाथों को बार-बार अच्छी तरह साबुन, गुनगुने पानी से धोएं. अच्छे हैन्ड सेनिटाइजर से भी हाथों को साफ रख सकते हैं.  
  2. अपने हाथों और उंगलियों को आंख, नाक और मुंह से दूर रखें.
  3. कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के करीब जाने से बचें.
  4. सी-फूड (समुद्री भोजन) ना खाएं.
  5. साफ-सफाई का विशेष ध्यान दें.
  6. हैंड सेनिटाइज़र हमेशा अपने पास रखें.
  7. पब्लिक ट्रांसपोर्ट के इस्तेमाल के बाद हाथ धोएं बिना अपने चेहरे और मुंह पर ना लगाएं.
  8. बीमार लोगों की देखभाल के वक्त अपने मुंह और नाक को कवर रखें.
  9. संक्रमित व्यक्ति के बर्तन और कपडे का इस्तेमाल ना करें.

आप इस संक्रमण का इलाज सर्दी-जुकाम के इलाज की तरह भी कर सकते हैं जैसे:-

  1. तरल पदार्थों का सेवन करें.
  2. खूब आराम करें.
  3. गले में खराश और बुखार के लिए दवाई लें लेकिन बच्चों और 19 साल से कम उम्र के किशोरों को aspirin ना दें. इसकी जगह ibuprofen और acetaminophen का इस्तेमाल करें.

अगर आपको हमारी ये जानकारी पंसद आयी हो तो अपने परिजनों, दोस्तों को जरूर शेयर करें और bell icon को press करना ना भूलें जिससे आपको हेल्थ से जुड़ी अन्य जानकारियां हमारे लेख द्वारा मिलती रहे.

धन्यवाद

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *