Ashwagandha meaning in hindi| 13 फायदे

Ashwagandha meaning in hindi

Ashwagandha meaning in hindi – पूरी दुनिया आज कोरोना वायरस (Covid 19) से जंग लड़ रही है. कहीं इसके खिलाफ जीत हासिल की जा चुकी है तो कहीं इससे जीतने की कवायद जारी है. भारत में भी कोरोना से पूरी ताकत के साथ लड़ा जा रहा है. भारत समेत दुनिया भर में इसे परास्त करने का पक्का इलाज ढूंढ़ा जा रहा है हालांकि उसमें अभी लंबा वक्त लग सकता है. लिहाजा भारत में आयुर्वेद को कोरोना से जंग में बड़ा हथियार बनाने की कोशिश की जा रही है.

भारत में आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी अश्वगंधा(ashwagandha) से कोरोना का पक्का इलाज तैयार करने की कोशिश की जा रही है. अश्वगंधा(ashwagandha) एक आयुर्वेदिक औषधि है. आज अपनी इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं कि अश्वगंधा में ऐसा क्या है जो इससे कोरोना को मात देने का दावा किया जा रहा है.

अश्वगंधा(ashwagandha) का परिचय|Ashwagandha meaning in hindi

वैज्ञानिक नाम- विथानिया सोम्नीफेरा

वंश-सोलेनेसी

संस्कृत नाम- अश्वगंधा, वराहकर्णी, कमरूपिणी

सामान्य नाम- असगंध, विंटर चैरी, इंडियन गिनसेंग

उपयोगी भाग-जड़, पत्ती, फूल और बीज

तासीर-गर्म

भौगोलिक विवरण– अश्वगंधा एक छोटा झाड़ीनुमा पौधा होता है जिस पर पीले रंग के फूल खिलते हैं. इसकी जड़ और पत्तियों के पाउडर से कई रोगों का इलाज किया जाता है. यह हर मौसम में पाया जाता है. जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि अश्वगंधा(ashwagandha) विथानिया कुल का पौधा है. विथानिया की विश्व में 10 और भारत में 2 प्रजातियां पायी जाती हैं. विश्व में विथानिया कुल के पौधे स्पेन, मोरक्को, जोर्डन, मिश्र, अफ्रीका, पाकिस्तान, भारत तथा श्रीलंका में प्राकृतिक रूप से पाये जाते हैं. भारत में अश्वगंधा(ashwagandha) की खेती 1500 मीटर की ऊंचाई तक के सभी क्षेत्रों में की जाती है. भारत के पश्चिमोत्तर भाग राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश एवं हिमाचल प्रदेश आदि में अश्वगंधा(ashwagandha) की खेती की जाती है. इनमें राजस्थान और मध्य प्रदेश में अश्वगंधा(ashwagandha) की खेती बड़े स्तर पर की जाती है.

अश्वगंधा(ashwagandha) क्या है |Ashwagandha meaning in hindi

अश्वगंधा(ashwagandha) एक बेहद शक्तिशाली व महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है. आयुर्वेद की हम जब भी बात करते हैं तो अश्वगंधा(ashwagandha) का नाम अपने आप जबां पर आ जाता है. या यूं कह लें कि अश्वगंधा(ashwagandha) के बिना आयुर्वेद की कल्पना भी नहीं की जा सकती. अश्वगंधा आयुर्वेद की ना सिर्फ लोकप्रिय जड़ी-बूटी है बल्कि यह काफी काम की भी है. सदियों से कई रोगों में इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है. सिर्फ रोग ही नहीं सौंदर्य को निखारने के लिए भी अश्वगंधा(ashwagandha) का बड़े स्तर पर उपयोग होता आ रहा है. तीन हजार से ज्यादा सालों से अश्वगंधा(ashwagandha) का औषधि के रूप में उपयोग होता आ रहा है.

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में अश्वगंधा(ashwagandha) को रसायन माना जाता है. यह शरीर में हार्मोन को संतुलित करने का काम करता है. हालांकि गर्भवती महिलाओं को अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए. क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है और इसमें गर्भ गिराने वाले गुण होते हैं.

अश्वगंधा(ashwagandha) नाम का रहस्य|Ashwagandha meaning in hindi

क्या आप जानते हैं अश्वगंधा(ashwagandha) का नाम अश्वगंधा क्यों है. क्योंकि इसकी जड़ों और पत्तियों को मसलने पर घोड़े के मूत्र जैसी गंध आती है. इसलिए इसे अश्वगंधा(ashwagandha) कहते हैं. आम बोलचाल में अश्वगंधा को लोग असगंध के नाम से भी जानते हैं.

अश्वगंधा(ashwagandha) के प्रकार |Ashwagandha meaning in hindi

अलग-अलग देशों में अलग-अलग प्रकार की अश्वगंधा पाई जाती है. हालांकि मुख्यत: रूप से यह दो प्रकार की होती है. छोटी अश्वगंधा और बड़ी अश्वगंधा

छोटी अश्वगंधा- इसकी झाड़ी छोटी होती है इसलिए इसे छोटी अश्वगंधा(ashwagandha) कहते हैं, हालांकि इसकी जड़ बड़ी होती है. यह राजस्थान के नागौर में प्रमुख रूप से पाई जाती है. इसलिए इसे नागौरी असगंध(अश्वगंधा) भी कहते हैं.

बड़ी या देशी असगंध(अश्वगंधा)- इसकी झाड़ी बड़ी होती है. वहीं इसकी जड़ें छोटी व पतली होती हैं. यह ज्यादातर बाग बगीचों, खेतों और पहाड़ी इलाकों में पाई जाती है.

अश्वगंधा(ashwagandha) के फायदे |ashwagandha ke fayde

अश्वगंधा(ashwagandha) कई रोगों में आश्चर्यजनक रूप से अपना प्रभाव दिखाती है. इसके निम्नलिखित फायदे हैं :-

  1. संक्रामक रोगों में असरदार (Ashwagandha meaning in hindi)-अपने एंटी-वायरल गुणों के कारण अश्वगंधा(ashwagandha) संक्रामक रोगों से लड़ने में काफी असरदार मानी जाती है. इसमें विशेष रूप से कुछ प्राकृतिक जैव रसायनिक यौगिक शामिल होते हैं जो संक्रामक रोगों से लड़ाई में काफी प्रभावी माने जाते हैं.
  2. तनाव कम करे (Ashwagandha meaning in hindi) – आयुर्वेद की सबसे शक्तिशाली जड़ी-बूटियों में से एक अश्वगंधा(ashwagandha) तनाव और चिंता को कम करने में काफी प्रभावी सिद्ध होती है. यह शरीर में तनाव के लिए जिम्मेदार कार्टिसोल हार्मोन के उत्पादन को कम करने मे मदद करती है.
  3. ऊर्जा बढ़ाए (Ashwagandha meaning in hindi) -अश्वगंधा(ashwagandha) हमारे शरीर में ऊर्जा का संचार करती है. यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर उसे ताकतवर बनाती है. दुबले-पतले लोगों के लिए इसे वरदान की तरह माना गया है. कहा जाता है कि शतावरी के साथ अश्वगंधा के सेवन से कमजोर से कमजोर व्यक्ति की सेहत दुरुस्त हो सकती है.
  4. मधुमेह(diabetes)में फायदेमंद (Ashwagandha meaning in hindi) –मधुमेह के रोगियों के लिए अश्वगंधा(ashwagandha) काफी लाभकारी मानी जाती है. इसका सेवन शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है. इसे मधुमेह का पारंपरिक इलाज कहा जाता है. (Diabetes सेकैसेबचें)
  5. कैंसर से लड़े (Ashwagandha meaning in hindi)- अश्वगंधा(ashwagandha) में कैंसर रोधी गुण होते हैं. कई विश्वसनीय शोधों में यह सामने आया है कि अश्वगंधा कैंसर कोशिकाओं को फैलने से रोकती है. इसे स्तन कैंसर(Breast cancer), फेफड़ों के कैंसर(lung cancer), किडनी(kidney) और प्रोस्टेट कैंसर(Prostate cancer) के इलाज में प्रभावी माना गया है. (Cancer in hindi meaning/Cancer (कैंसर) क्या है)
  6. बालों के लिए वरदान (Ashwagandha meaning in hindi)-अश्वगंधा(ashwagandha) बालों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. इसे सबसे ज्यादा सफेद बालों को काला बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. माना जाता है कि अश्वगंधा(ashwagandha) बालों से जुड़ी हर समस्या को जड़ से समाप्त कर देता है.
  7. त्वचा के लिए टॉनिक (Ashwagandha meaning in hindi)- अश्वगंधा(ashwagandha) त्वचा संबंधी समस्याओं पर किसी जादुई औषधि की तरह कार्य करता है. इसमें पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट, आयरन और अमीनो एसिड त्वचा संबंधी समस्याओं जैसे झुर्रियों, झाइयों, रूखापन आदि को खत्म करके त्वचा निखारता है.
  8. पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढाए– अश्वगंधा(ashwagandha) पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाकर प्रजनन क्षमता को बढ़ाती है. इसकी खुराक पुरुष हार्मोन के स्तर और प्रजनन स्वास्थ्य पर शक्तिशाली प्रभाव डालती है. कई शोधों में यह साबित हुआ है कि अश्वगंधा का सेवन करने वालों में प्रजनन क्षमता औरों के मुकाबले बेहतर है.
  9. गर्भधारण में असरदार– पुरुषों की तरह ही यह महिलाओं की प्रजनन क्षमता को भी बढ़ाने में सहायक सिद्ध होता है. अश्वगंधा(ashwagandha) महिलाओं में गर्भधारण की समस्या से निजात दिलाता है. इसके लिए आप अश्वगंधा चूर्ण को गाय के घी में मिलाकर मासिक धर्म के बाद से एक माह तक ताजे पानी के साथ इसका सेवन करें.
  10. कब्ज करे दूर– अश्वगंधा(ashwagandha) चूर्ण को गुनगुने पानी के साथ लेने से कब्ज़ की समस्या दूर होती है. (कब्ज़ का इलाज करने के प्राकृतिक तरीके)
  11. दिमाग करे तेज-कई शोधों में यह साबित हुआ है कि अश्वगंधा(ashwagandha) नर्व सेल्स को मजबूत करके दिमाग को तेज बनाती है. यही कारण है कि अश्वगंधा का इस्तमाल लगभग सभी हर्बल मस्तिष्क टॉनिक में किया जाता है.
  12. अल्ज़ाइमर रोग में लाभकारी– साल 2011 में किए गए एक सर्वे के मुताबिक अर्धशुद्ध अश्वगंधा की जड़ के इस्तेमाल से अल्ज़ाइमर रोग को ठीक किया जा सकता है.
  13. गठिया में लाभकारी– साल 2014 में किए गए एक अध्ययन के मुताबिक अश्वगंधा(ashwagandha) गठिया के इलाज में काफी लाभकारी सिद्ध होती है. अश्वगंधा(ashwagandha) में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो गठिया की तीव्रता को कम करता है.

अगर आपको हमारी ये पोस्ट(Ashwagandha meaning in hindi) पंसद आयी हो तो अपने परिजनों, दोस्तों को जरूर शेयर करें और bell icon को press करना ना भूलें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *