Bitter gourd in hindi|करेला के फायदे

bitter gourd in hindi
Bitter gourd in hindi

Bitter gourd in hindi-करेला(karela) के बारे में कौन नहीं जानता. विश्व भर में करेला(karela) अपने स्वास्थ्य लाभों के लिए प्रसिद्ध है. हालांकि ये अलग बात है कि करेला(karela/bitter gourd)  का नाम सुनते ही कई लोगों के मुंह नाक सिकुड़ने लगते हैं. घर में अगर करेला(karela) बनाने की बात कर दो तो आधे लोगों के मुंह का जायका ऐसे ही बिगड़ जाता है. वजह है इसका स्वाद में बेहद कड़वा व तीखा होना. लेकिन स्वाद में कड़वा लगने वाले करेले(karela) के फायदे उतने ही जबरदस्त हैं. करेला(karela) के अनगिनत स्वास्थ्य लाभ है.

करेला(karela) का परिचय |Bitter gourd in hindi

करेला(karela) का वानस्पतिक नाम मोमोर्डिका चरांशिया(Momordica charantia) है. यह कुकुरबिटेसी(Cucurbitaceae) कुल का है. करेला(karela) स्वाद में कड़वा व तीखा होता है. इसकी बेल होती है. करेले में कई सारे औषधीय गुण समाहित हैं. करेला(karela) का सबसे ज्यादा प्रयोग मधुमेह(diabetes) को ठीक करने के लिए किया जाता है. हालांकि करेले के कई सारे स्वास्थ्य लाभ हैं जिनसे लोग अंजान हैं.

करेला(karela) आम तौर पर अफ्रीका, एशिया और कैरीबियाई में पाया जाता है. इतिहास के पन्नों को देखें तो पता चलता है कि करेले का इस्तेमाल लगभग 600 साल पहले से होता आ रहा है. भारत में करेले को कई नामों से जाना जाता है. अलग-अलग भाषा में इसे अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे हिंदी में करेला, इंग्लिश में bitter gourd, गुजराती में ‘करला’,  मराठी में ‘करले’, तेलुगु में ‘ककरकाया’, तमिल में ‘पावकाई’  आदि.

करेले की तासीर गर्म होती है. इसलिए नियमित्र मात्रा में ही इसका सेवन फायदेमंद होता है. अधिक मात्रा में इसके सेवन से शरीर को नुकसान भी पहुंच सकता है.

करेला(Karela) में कई औषधीय गुण |Bitter gourd in hindi

करेला(karela) अपने अंदर अनगिनत औषधीय गुणों को समाए हुए है. करेला(karela) कितने ही गंभीर रोगों की रामबाण दवा है. करेले में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फोलेट, विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन बी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. करेला(karela) में कैरोटीन, लूटीन, जिंक तत्व भी पाए जाते हैं. इसके अलावा करेला(karela) में फाइबर भी अच्छी मात्रा में मौजूद होता है. करेले में ब्रोकली के मुकाबले दोगुना बीटा कैरोटीन(beta-carotene) पाया जाता है. वहीं केले का दोगुना पोटेशियम इस कड़वे करेले में पाया जाता है. एक रिपोर्ट के अनुसार 100 ग्राम करेले में 13 मिलीग्राम सोडियम, 602 ग्राम पोटेशियम, 7 ग्राम कुल कार्बोहाइड्रेट, और 3.6 ग्राम प्रोटीन के साथ लगभग 34 कैलोरी होती है.

करेले के बारे में अधिकतर लोग यही जानते होंगे कि यह डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए उपयोग में लाया जाता है. पर यह आधा सत्य है, करेला(karela) मधुमेह के अलावा भी कई सारे रोगों पर जादुई असर दिखाता है. करेला(karela) के सेवन से कई रोगों को ठीक किया जा सकता है.

करेले को कई तरह से खाया जाता है. कुछ लोग इसकी सब्जी बनाकर खाना पसंद करते हैं तो कुछ लोग नियमित रूप से इसके जूस का सेवन करते हैं. सिर्फ करेले का जूस पीकर आप खुद को कई सारे रोगों से दूर रख सकते हैं.

करेला(karela) के फायदे|Bitter gourd in hindi                               

विभिन्न औषधीय गुणों से भरपूर करेला(karela) के कई सारे फायदे हैं जो निम्नलिखित हैं.

  1. मधुमेह(diabetes) में फायदेमंद– करेला(karela) को डायबिटीज़(diabetes) के रोगियों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है. यह डायबिटीज़ रोगियों के लिए अमृत समान है. इसमें मौजूद यौगिक मधुमेह(diabetes) को रोकने में मदद करते हैं. मधुमेह के रोगियों को प्रतिदिन करेला(karela) का जूस पीने की सलाह दी जाती है. करेला(karela) का जूस इन्सुलिन को सक्रिय करता है. यह रक्त में शर्करा के स्तर को कम करता है. Diabetes के लक्षण
  2. लिवर के लिए लाभदायक-लिवर हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है. लिवर स्वस्थ हो तो शरीर स्वस्थ रहता है. इसलिए करेला(karela) का सेवन आपके लिवर को भी स्वस्थ रखता है. करेला(karela) को सब्जी व जूस किसी भी रूप में लेने से लिवर साफ रहता है और सुचारू रूप से कार्य करता है. करेला(karela) में मौजूद हिपेटिक गुण लिवर के लिए अत्यंत स्वास्थ्यवर्धक होते हैं. लिवर ठीक हो तो शरीर कई बीमारियों से दूर रहता है.
  3. कैंसर से करे बचाव– करेला(karela) के नियमित सेवन से कैंसर जैसी गंभीर समस्याओं से भी बचा जा सकता है. करेला में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण आपके शरीर को कैंसर से सुरक्षा प्रदान करते हैं. जो लोग करेले का सब्जी या जूस के रूप में नियमित सेवन करते हैं उनमें ग्रीवा, प्रोस्टेट और ब्रेस्ट कैंसर का खतरा अन्य लोगों के मुकाबले कई गुना कम होता है. Cancer (कैंसर) के कारण
  4. रोग प्रतिरोधक क्षमता(immunity) बढ़ाए– करेला(karela) हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाता है. इसमें मौजूद औषधीय गुण शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करते हैं. नियमित तौर पर करेला(karela) का जूस पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और कई बीमारियों से शरीर का बचाव होता है. कैसे बढ़ाएं Immunity (रोग प्रतिरोधक क्षमता)|Immunity means in hindi
  5. रक्त को करे साफ-करेला(karela) खून को भी साफ करता है. इसमें मौजूद औषधीय गुण शरीर में रक्त की सफाई कर रोगों से दूर रखते हैं.
  6. बवासीर(piles) में फायदेमंद– बवासीर(piles) की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए करेला(karela) एक उत्तम आहार है. करेले में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी एवं एंटी-ऑक्सीडेंट गुण बवासीर के रोगियों के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होते हैं. इसके अलावा करेले में फाइबर की भी अच्छी मात्रा मौजूद होती है जो कब्ज की समस्या से राहत दिलाती है. Piles (बवासीर) क्या है |About piles in hindi
  7. पाचन संबंधी समस्या करे दूर– करेला(karela) पेट संबंधी सभी समस्याओं को दूर करता है. प्रतिदिन करेले का जूस पीने से कमजोर पाचन तंत्र उत्तेजित होता है जिससे कब्ज़, एसिडिटी जैसी समस्याओं से राहत मिलती है व भूख भी बढ़ती है.
  8. वजन घटाने में सहायक– करेला(karela) आपकी मोटापे की समस्या को भी हल कर सकता है. एक स्टडी के मुताबिक करेले का जूस मोटापा कम करने में मदद करता है. यह शरीर में इंसुलिन को एक्टिव करता है जिससे शरीर में शुगर फैट का रूप नहीं ले पाती. करेले के जूस के नियमित सेवन से चर्बी कम होती है और फैट कंट्रोल में रहता है. इसके अलावा करेला(karela) में कैलरी भी काफी कम होती है.
  9. पथरी की समस्या में लाभदायक– करेला(karela) पथरी की समस्या में रामबाण की तरह काम करता है. इसमें मौजूद मैग्नीशियम और फॉस्फोरस जैसे तत्व पथरी बनने से रोकने में सहायक होते हैं. किडनी स्टोन में करेले के जूस के नियमित सेवन की सलाह दी जाती है. इससे पथरी टूट कर मूत्र के रास्ते निकल जाती है.
  10. आंखों के लिए असरदार-बढ़ती उम्र के साथ आंखों की रोशनी कम होने लगती है. ऐसे में करेले का नियमित सेवन आपके लिए काफी लाभदायक सिद्ध हो सकता है. इससे आपकी आंखों की रोशनी लंबी उम्र तक बनी रह सकती है.
  11. अस्थमा(asthma) में लाभदायक-दमा के रोगियों के लिए भी करेला(karela) का सेवन लाभदायक होता है. दमा रोग में करेले की बगैर मसाले की सब्जी खाने की सलाह दी जाती है. Asthma in hindi| कारण, लक्षण और बचाव
  12. हृदय विकारों से बचाए– करेला(karela) का सेवन हृदय संबंधी विकारों से शरीर की रक्षा करता है. करेला(karela) हानिकारक वसा को हृदय की धमनियों में जमने नहीं देता जिससे रक्तसंचार व्यवस्थित बना रहता है व हार्ट अटैक का खतरा टलता है.
  13. हैंगओवर उतारे– कड़वे करेला(karela) का यह फायदा बहुत कम लोग जानते होंगे कि करेले का जूस आपका हैंगओवर भी उतारता है. जी हां, करेले में मौजूद एंटी-इन्टॉक्सिकेशन गुण शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर हैंगओवर से निजात दिलाने में मदद करते हैं. साथ ही करेले का नियमित सेवन आपकी शराब की लत को छुड़ाने में भी मददगार साबित हो सकता है.
  14. त्वचा के लिए वरदान-त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए करेला(karela) एक कारगर उपाय है. फिर चाहे वो कील-मुंहासे हों या फिर त्वचा का रूखापन. करेला(karela) हर समस्या का इलाज है. इसके लिए आप करेले के रस को नींबू के रस के साथ मिलाकर अपने चेहरे पर लगाएं. एक सप्ताह के अंदर आपको फर्क देखने को मिलेगा.
  15. बालों के लिए लाभदायक-करेला(karela) बालों के लिए भी लाभदायक है. इसमें विटामिन ए, बी और सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो बालों के लिए बेहद जरूरी है. प्रतिदिन करेला(karela) का जूस पीने से बालों से संबंधित समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है.

plz share if you care

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *